A Fastest Growing Hindi Blog

21 जुल॰ 2020

Women Empowerment in Hindi | महिला सशक्तिकरण हिन्दी में

Women Empowerment in Hindi

महिला सशक्तिकरण(Women Empowerment) से मतलब महिलाओं को अपने लिए निर्णय लेने में सक्षम बनाने के लिए शक्तिशाली बनाना है। महिलाओं को पुरुषों के हाथों वर्षों से बहुत कुछ झेलना पड़ा है। पहले की शताब्दियों में, उन्हें लगभग अस्तित्वहीन माना जाता था। मानो सभी अधिकार पुरुषों के लिए बने हैं, मतदान भी केवल पुरुषों का अधिकार था। जैसे-जैसे समय आगे बढ़ा, महिलाओं को अपनी शक्ति का एहसास हुआ और महिला सशक्तिकरण के लिए क्रांति की शुरुआत हुई।

Women Empowerment in Hindi


जैसा कि महिलाओं को उनके लिए निर्णय लेने की अनुमति नहीं थी, महिला सशक्तिकरण ताजी हवा की तरह आया। इसने उन्हें उनके अधिकारों के बारे में जागरूक किया और उन्हें एक आदमी पर निर्भर रहने के बजाय समाज में अपनी जगह बनाना सिखाया। उन्होने जाना कि चीजें केवल उनके लिंग के कारण किसी के पक्ष में नहीं हो सकती हैं। हालाँकि, हमे अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है लेकिन हम बहुत लंबा रास्ता तय भी कर चुके हैं.

महिला सशक्तिकरण की आवश्यकता

लगभग हर देश में, चाहे वो कितना भी प्रगतिशील क्यों न हो वहाँ इतिहास में महिलाओं के साथ बुरा व्यवहार हुआ ही है। दूसरे शब्दों में, दुनिया भर की महिलाएँ आज जिस मुकाम पर हैं, वहाँ पहुँचने के लिए उन्होने इसके लिए बहुत संघर्ष किया हैं। पश्चिमी देश अभी भी प्रगति की राह पर हैं, भारत जैसे देश को भी Women Empowerment में अभी बहुत आगे बढ़ना है.


भारत में महिला सशक्तीकरण आज भी बहुत ज्यादा जरूरत है। भारत भी उन देशों में से है जो महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा सुरक्षित नहीं हैं। इसके कई कारण हैं। सबसे पहले, भारत में महिलाओं को ऑनर किलिंग का खतरा है। इसके अलावा बहुत से परिवार महिलाओं को आज भी संपत्ति में बराबर का हकदार नहीं समझते हैं.

इसके अलावा, शिक्षा और स्वतंत्रता में भी महिलाओं को समानता प्राप्त नहीं है। आज भी बहुत सी जगह महिलाओं को उच्च शिक्षा हासिल करने की अनुमति नहीं है, उनका विवाह भी जल्दी हो जाता है। पुरुष अभी भी कुछ क्षेत्रों में महिलाओं पर हावी हो रहे हैं जैसे कि कुछ लोग समझते हैं की महिला का कर्तव्य है कि वह जीवन भर उनके लिए ही काम करे। वे उन्हें बाहर नहीं जाने देते या उन्हें किसी भी तरह की आजादी नहीं है।


इसके अलावा, भारत में घरेलू हिंसा एक बड़ी समस्या है। बहुत से पुरुष अपनी पत्नियों को मारते हैं और उनके साथ गलत व्यवहार करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि महिलाएं उनकी संपत्ति हैं। इसी तरह, जो महिलाएं काम करती हैं, उन्हें अपने पुरुष समकक्षों की तुलना में कम वेतन मिलता है। यह बिल्कुल गलत है कि किसी को उसके लिंग के कारण कम वेतन मिले। इस प्रकार, हम देखते हैं कि महिला सशक्तिकरण की बहुत ज्यादा आवश्यकता है। हमें इन महिलाओं को खुद के लिए बोलने के लिए और अन्याय का शिकार होने से बचाने के लिए महिला सशक्तिकरण की आवश्यकता है।

महिलाओं को Empower कैसे करें?

महिलाओं को Empower बनाने के बहुत से तरीके हैं। इसे करने के लिए व्यक्तियों और सरकार दोनों को साथ आना चाहिए। लड़कियों के लिए शिक्षा अनिवार्य की जानी चाहिए ताकि महिलाएं अनपढ़ ना रहें।

Gender को बिना देखे महिलाओं को हर क्षेत्र में समान अवसर दिए जाने चाहिए। इसके अलावा, उन्हें समान वेतन भी दिया जाना चाहिए। हम बाल विवाह को समाप्त करके महिलाओं को सशक्त बना सकते हैं। विभिन्न कार्यक्रमों को आयोजित किया जाना चाहिए, जहां उन्हें वित्तीय संकट का सामना करने के लिए और खुद को आगे बढ़ाने के लिए Skill सिखाया जा सकता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात, तलाक और दुर्व्यवहार के डर को खिड़की से बाहर फेंक दिया जाना चाहिए। कई महिलाएं समाज के डर के कारण अपमानजनक रिश्तों में बनी रहती हैं। माता-पिता को अपनी बेटियों को यह सिखाना चाहिए कि ताबूत के बजाय अपने घर में रहना ज्यादा अच्छा है।

यह भी पढ़ें -
Share:

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

LIKE US ON FB

Popular Posts