A Fastest Growing Hindi Blog

30 जन॰ 2020

रहीम के बेहतरीन दोहे हिन्दी अर्थ के साथ | Rahim ke dohe

Rahim Ke Dohe in Hindi | रहीम के दोहे

रहीम के दोहे सुनते ही मुझे स्कूल की याद आ जाती है लेकिन रहीम के दोहों में वो ज्ञान है जो जीवन के किसी भी पड़ाव में आपके काम आ आसक्त है. आइये जानते हैं रहीम के कुछ बेहतरीन दोहे और उनका अर्थ।

रहीम के दोहे

रहीम दोहा 1 -
रहिमन देख बड़ेन को, लघु न दीजिये डारि। जहाँ काम आवै सुई, कहा करै तलवारि॥
Rahim Ke Dohe in Hindi
अर्थ - रहीम कहते हैं कि आपको छोटी चीज़ों / ग़रीब दोस्तों को सिर्फ इसलिए नहीं भूलना चाहिए क्योंकि अब आपकी पहुंच बड़े / अमीर, महत्वपूर्ण लोगों तक है. उदाहरण के लिए, आप एक तलवार का उपयोग नहीं कर सकते हैं जहाँ आपको सुई की आवश्यकता होती है, भले ही तलवार सुई से बहुत बड़ी हो.


यह भी पढ़े - कबीर के बेहतरीन दोहे हिन्दी अर्थ के साथ

रहीम दोहा 2 -
बानी ऐसी बोलिये, मन का आपा खोय। औरन को सीतल करै, आपहु सीतल होय॥

अर्थ - आपकी वाणी ऐसा होना चाहिए कि यह सभी को खुश करे. दूसरों को आपकी बात सुनकर खुशी महसूस होनी चाहिए और आपको खुद भी खुश और संतुष्ट महसूस करना चाहिए।

रहीम दोहा 3 -
रहिमन धागा प्रेम का, मत तोड़ो चटकाय। टूटे से फिर ना जुड़े, जुड़े गाँठ परि जाय॥

अर्थ - रहीम कहते हैं, लोगों के बीच प्यार के नाजुक धागे को टूटने न दें. यदि यह एक बार टूट जाता है, तो इसे संशोधित नहीं किया जा सकता है, भले ही आप इसे संशोधित करने की कोशिस करते हों, इसमें एक गाँठ तो रहेगी ही, जिसका अर्थ है कि रिश्ते में हमेशा कुछ खटास होगी।

रहीम दोहा 4 -
रुठे सुजन मनाइए, जो रुठै सौ बार। रहिमन फिरि फिरि पोहिए, टूटे मुक्ताहार॥

अर्थ - रहीम कहते हैं, अगर अच्छे लोग आपसे नाराज़ होते हैं, तो आपको उनके साथ फिर भी अच्छा सुलूक ही करना चाहिए। जैसे आप टूटे हुए मोती के हार की मरम्मत बार-बार करते हैं.

रहीम दोहा 5 -
छमा बड़न को चाहिये, छोटन को उत्पात। कह ‘रहीम’ हरि का घट्यौ, जो भृगु मारी लात॥


अर्थ - छोटी सोच वाले लोग परेशानी पैदा करते हैं और महान लोग उन्हें माफ कर देते हैं. रहीम कहते हैं कि भगवान विष्णु ने तब भी बुरा नहीं माना जब ऋषि भृगु ने उन्हें लात मारी।

रहीम दोहा 6 -
तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान। कहि रहीम पर काज हित, संपति सँचहि सुजान॥

अर्थ - पेड़ अपने फल नहीं खाते हैं, स्नान गृह अपना खुद का पानी नहीं पीते हैं. रहीम कहते हैं कि अच्छे लोग दूसरों का भला करने के लिए धन जमा करते हैं.

रहीम दोहा 7 -
बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय। जो दिल खोजा आपना, मुझसा बुरा न कोय ॥

अर्थ - जब मैंने बाहर बुराई की तलाश की, तो मुझे कोई बुराई नहीं मिली। एक बार जब मैंने अपने दिल (आत्मनिरीक्षण) में देखना शुरू किया, तो मैंने पाया कि मैं सबसे ज्यादा दुष्ट हूं. रहीम का अर्थ है, हमें दूसरों के साथ दोष खोजने के बजाय अपनी स्वयं की कमियों को सुधारने का प्रयास करना चाहिए।

रहीम दोहा 8 -
बिगरी बात बनै नहीं, लाख करों किन कोय । रहिमन फाटे दूध को, मथे न माखन होय।

अर्थ - रहीम कहते हैं जब कुछ गलत होता है, तो आप किसी भी तरह से उसे सही नहीं कर सकते हैं। ठीक उसी तरह जैसे जब दूध से दही बन जाता है तब आप इससे मक्खन नहीं पा सकते।

यह भी पढ़ें -सरोजिनी नायडू का जीवन परिचय

रहीम दोहा 9 -
गहि सरनागति राम की, भवसागर की नाव । रहिमन जगत-उधार को, और ना कोऊ उपाय ।।

अर्थ - रहीम कहते हैं कि इस जीवन और दुनिया से पार पाने का एकमात्र तरीका भगवान (राम) है।

रहीम दोहा 10 -
चाह गयी चिंता मिटी, मनुआ बेपरवाह जिनको कछु ना चाहिए, वे साहन के साह

अर्थ - रहीम कहते हैं कि चीजों को चाहना ही सभी चिंताओं का मूल है और अगर सभी को खत्म कर दिया जाए तो कोई चिंता नहीं होगी। जो लोग कुछ नहीं चाहते हैं वे राजाओं के राजा हैं क्योंकि वे सभी परिस्थितियों में खुश हैं।

रहीम दोहा 11 -
जो रहीम उत्तम प्रकृति, का करी सकत कुसंग । चन्दन विष व्यापत नहीं, लिपटे रहत भुजंग ।।

अर्थ - रहीम का कहना है कि खराब संगत किसी उत्कृष्ट चरित्र को खराब नहीं कर सकती है. जैसे, चंदन के पेड़ पर सांप हमेशा रहते हैं, लेकिन यह कभी जहरीला नहीं होता।

रहीम दोहा 12 -
रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून। पानी गये न ऊबरे, मोती, मानुष, चून॥

अर्थ - रहीम कहते हैं, पानी सबसे महत्वपूर्ण है। पानी के बिना, कोई धन (मोती), जीवन या पृथ्वी नहीं है।

आपको रहीम के ये दोहे कैसे लगे? हमें कमेंट करके जरूर बताएं। साथ ही पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ जरूर शेयर करें।

संत रहीम के बारे में अन्य जानकारी - रहीम - विकिपीडिया

यह भी पढ़ें -
Share:

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

LIKE US ON FB

Popular Posts