A Fastest Growing Hindi Blog

4 मार्च 2019

नकारात्मक विचारों को अपने दिमाग से निकलने का सबसे आसान तरीका

How to Stop Negative Thinking in Hindi

बात चाहे अवचेतन मन पर आपके नियंत्रण की हो या फिर आकर्षण के सिधान्त कि यह तभी मुमकिन है जब आप अपनी Negative Thinking पर नियंत्रण कर पाएंगे. जैसा कि मैं हमेशा कहता हूं आपकी सोच ही आपको बनाती है.

Negative Thinking आखिर है क्या? (What is Negative Thinking)

नकारात्मक सोच आपके दिमाग की एक आदत है और आप अपनी आदत को बदल सकते हैं आज मैं आपके लिए लेकर आया हूं कुछ बहुत ही खास तरीके जो आपकी आदत को बदलने में आपकी सहायता करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं



पहला - अपनी बॉडी लैंग्वेज बदलें
आपकी बॉडी लैंग्वेज से आपकी सोच पर फर्क पड़ता है. एक पल के लिए अपने आप को देखें जब आप खड़े हो या बैठे हो तो क्या आप के कंधे अक्सर झुके हुए रहते हैं अगर हाँ तो सीधे बैठना शुरू करें। आपकी गलत बॉडी लैंग्वेज आपके आत्मविश्वास को कम करती है और जब आपका आत्मविश्वास कम होगा तब नकारात्मक विचार आपके ऊपर हावी होने लगेंगे कोशिश करें जितना ज्यादा आप मुस्कुरा सकते हैं मुस्कुराइए।

दूसरा - जो भी आपके दिमाग में है उसे एक बार बाहर निकालिए
कभी-कभी नकारात्मक विचार तब आते हैं जब आपके दिमाग में कोई चीज या कोई समस्या रह जाती है. इन चीजों को खुद तक मत रखें इन्हें बाहर निकाल दीजिये। किसी से बात करें और अगर आप किसी को बता नहीं सकते तो अपने दिमाग को खुद बोले “मैं तुम्हारी इस बात को नहीं मानता”, इस बात को बार-बार बोले जब भी आपके दिमाग में कोई नकारात्मक विचार आता है, नकारात्मक विचार तब आते हैं जब कोई काम आपके अनुसार नहीं चलता और उसे खत्म करने के लिए आपको आत्मविश्वास बढ़ाना होना पड़ेगा।

तीसरा - हर दिन 1 मिनट के लिए अपने मन को शांत रखने की कोशिश करें
हर दिन हमारे दिमाग में 70 से 80 हजार विचार आते हैं. अपने दिन का 1 मिनट कम से कम ऐसा निकाले जब आपका दिमाग़ बिल्कुल शांत हो, आंखें बंद करें अपनी श्वास पर ध्यान दें, आप अपने फोन को तो रिबूट करते ही होंगे वैसे ही यह 1 मिनट आपके दिमाग को रीबूट करने में आपकी सहायता करेगा।


चौथा - अपने सोचने के तरीके को बदलें
How to Stop Negative Thinking in Hindi
कभी कभी नकारात्मक विचार आपके गलत नजरिए की वजह से आते हैं. आप अपने आसपास की चीजों को जो आपके आसपास हो रहा है उन्हें ध्यान से देखना शुरू करें और अपने सोचने के तरीके को बदलें। जैसे मैं मुश्किल में हूं और मेरा टाइम अच्छा नहीं चल रहा उसकी जगह आप यह सोच सकते हैं कि मैं कुछ चुनौतियों का सामना कर रहा हूं और मैं उसके समाधान को जरूर ढूंढ लूंगा, दोनों बातों का मतलब एक ही है पर आपके सोचने का तरीका बदल गया तो ऐसे ही आप अपने सोचने का ढंग बदलें।

पांचवा - क्रिएटिव रहे
How to Stop Negative Thinking in Hindi
अगर आपके दिमाग में नकारात्मक विचार आते हैं तो आप तुरंत उस काम को करने लग जाओ जिस काम में आप को सबसे ज्यादा मन लगता है या फिर उस काम के बारे में सोचने लग जाओ, उस काम में डूब जाओ जैसे कुछ लोगों को गाने सुनना पसंद हो सकता है, कुछ को पेंटिंग करना, अपने आपको व्यस्त कर दें, अपने साथ हुई अच्छी चीजों को याद करे जो आपके लाइफ में हुई है. मुस्कुराए और उन चीजों को सोचें जो आप चाहते हैं उनको नहीं जो आप नहीं चाहते क्योंकि आपकी सोच ही आपको बनाती है.

एक आखरी बात जो मैं आपसे बोलना चाहूंगा कि अपने दिमाग में एक बात डाल लें कि ऐसा कुछ भी नहीं जो मैं कर नहीं सकता तो दोस्तों यह थी आज की पोस्ट आशा करता हूं आपको यह जानकारी पसंद आयी होंगी, पोस्ट पसंद आयी तो अपनीपोस्ट को शेयर जरूर करें.




अब पाइये हमारी सभी नयी पोस्ट अपने मोबाइल पर इसके लिए जुड़िये हमारे Whatsapp ग्रुप से - यहाँ क्लिक कीजिये

अगर आप अपना नंबर पब्लिक नहीं करना चाहते तो आपको "Hello Bloggeramit" लिखकर @9536884448 पर मेसेज करना होगा और भविष्य में आने वाली सभी पोस्ट आपके whatsapp पर पहुच जाएगी, धन्यवाद।
Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

LIKE US ON FB

Popular Posts