Blog By Amit Tripathi

14 अग॰ 2021

5G नेटवर्क पर निबंध | 5G Network in Hindi

5G नेटवर्क पर निबंध | 5G Network in Hindi

आज की इस पोस्ट में हम 5G नेटवर्क (5G Network in Hindi) के बारे में विस्तार में बात करने वाले हैं, तो चलिए बिना किसी देरी के.

Introduction | प्रस्तावना

5G Network in Hindi - 5G Technology मोबाइल ब्रॉडबैंड की अगली पीढ़ी है जो जल्द ही 4G LTE कनेक्शन को Replace करने वाली है। LTE यानी Long-term development मोबाइल उपकरणों और डेटा टर्मिनलों के वायरलेस ब्रॉडबैंड संचार के लिए एक Standard है।

5G दूरसंचार के क्षेत्र में एक नई क्रांतिकारी तकनीक है। यह Technology Future में 4G की जगह Communication के Field में अभूतपूर्व भूमिका निभाने के लिए तैयार है। दक्षिण से शुरू की गई इस तकनीक को भारत में भी पेश किया जा रहा है, जो भारत के सामाजिक, आर्थिक, रक्षा, अंतरिक्ष आदि के महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को गति देगी और राष्ट्र का विकास तेजी से होगा।

5G तकनीक इंटरनेट की पांचवीं पीढ़ी है और इसे अब तक डेटा ट्रांसफर का सबसे तेज और सुरक्षित साधन माना जाता है। इसकी स्पीड लगभग 1 जीबीपीएस से ज्यादा होगी, जो एक सामान्य वायरलेस मोबाइल फोन से करीब दस गुना ज्यादा है। High-speed Data Transfer और Low Latency के कारण 5G अपनी पिछली पीढ़ी की तुलना में बहुत अधिक Powerful है।

कैसे काम करता है 5G?

5G नेटवर्क के Transfer के लिए किसी भी प्रकार के टॉवर की आवश्यकता नहीं होगी, बल्कि छत या बिजली के खंभों में छोटे सेल स्टेशनों के द्वारा Signal को Transfer किया जाएगा। मिलीमीटर-वेव स्पेक्ट्रम के कारण Small Cells काफी अधिक महत्वपूर्ण हैं।
5G Network in Hindi

5 जी Technology के तहत विभिन्न अत्याधुनिक तकनीकों, जैसे एमआईएमओ, टीडीडी, आदि का उपयोग किया जाएगा। मल्टीपल इनपुट मल्टीपल आउटपुट (MIMO) तकनीक लगभग 952 एमबीपीएस की Speed के साथ डाउनलोडिंग क्षमता Provide करेगी।

पहली पीढ़ी से पांचवीं पीढ़ी तक का सफर

  • 1G टेक्नोलॉजी को 1980 के दशक में लॉन्च किया गया था और यह एनालॉग रेडियो सिग्नल पर काम करती थी और केवल वॉयस कॉल को सपोर्ट करती थी।
  • 2जी टेक्नोलॉजी को 1990 के दशक में लॉन्च किया गया था जो डिजिटल रेडियो सिग्नल का उपयोग करता है और 64 केबीपीएस की बैंडविड्थ के साथ वॉयस और डेटा ट्रांसमिशन दोनों को सपोर्ट करता है।
  • 3जी तकनीक को 2000 के दशक में 1 एमबीपीएस से 2 एमबीपीएस की गति के साथ लॉन्च किया गया था और इसमें डिजीटल वॉइस, वीडियो कॉल कॉन्फ्रेंसिंग सहित टेलीफोन संकेतों को Transfer करने की क्षमता है।
  • 4जी टेक्नोलॉजी को 2009 में 100 एमबीपीएस से 1 जीबीपीएस की पीक स्पीड के साथ लॉन्च किया गया था और यह 3डी वर्चुअल रियलिटी को भी Enable करता है।

5G Technology के फायदे

  • अब 5G Network in Hindi पोस्ट में हम 5G Technology के कुछ फायदों के बारे में बात करने वाले हैं.
  • 5G तकनीक से Advanced मोबाइल ब्रॉडबैंड आने की उम्मीद है जो High Coverage Requirements को पूरा कर सकता है।
  • अगर भारत में 5G तकनीक को सफलतापूर्वक लागू किया जाता है, तो यह भारतीय दूरसंचार क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव लाएगा।
  • यह तकनीक भारत सरकार के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम, मेक इन इंडिया, ईज ऑफ डूइंग बिजनेस को गति देगी। इसके अलावा न्यू इंडिया मिशन, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, भारत नेट प्रोजेक्ट आदि को भी सफल बनाया जा सकता है।
  • 5G इंटरनेट ऑफ थिंग्स के लिए Ecosystem की सुविधा भी प्रदान करेगा।
  • 5G तकनीक, जिसे इंटरनेट की पांचवीं पीढ़ी कहा जाता है, का उपयोग भारत की जीडीपी बढ़ाने, रोजगार सृजन अर्थव्यवस्था को डिजिटल बनाने आदि के लिए किया जा सकता है।
  • 5G तकनीक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को हमारे दैनिक जीवन में शामिल करने में मदद करेगी।
  • ऐसा अनुमान है कि 5G तकनीक भारत में डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगी, जिससे भारत को 2024 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था हासिल करने में Help मिलेगी।

5G Technology के Challenges

  • सूचना और संचार प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों के अनुसार, भारत में 5G के लिए उपयुक्त बुनियादी ढांचे का अभाव है, और इसे विकसित करना अपने आप में एक चुनौती है।
  • 5G कनेक्शन Present में Available नेटवर्क के Compare में अधिक महंगा है। 5G के लिए Investors को प्रति वर्ष $2000 बिलियन से अधिक निवेश करने की आवश्यकता है, जो निवेशकों को Discourage करता है।

निष्कर्ष

यह सच है कि अभी भारत में 5G तकनीक से संबंधित बुनियादी ढांचे, निवेश और स्वास्थ्य से संबंधित चुनौतियां हैं, लेकिन सरकार को इन चुनौतियों का जल्द से जल्द समाधान करना चाहिए और इस तकनीक को भारत में लागू करना चाहिए। भारत में 5जी प्रौद्योगिकियों के आने से आर्थिक, सामाजिक-रणनीतिक आदि सभी क्षेत्रों में गतिशीलता आएगी और देश के विकास को और मजबूती मिलेगी।

यह भी पढ़ें -
Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Join Us On Telegram

Join Us On Telegram
Stay Updated

LIKE US ON FB

Popular Posts