A Hindi Blog About Motivation, Daily News and New Technology Update

27 दिस॰ 2018

Mentally Strong कैसे बने | यह 5 बातें आपको बना देंगी मानसिक रूप से मजबूत

Mentally Strong कैसे बने?

दोस्तों आज की इस पोस्ट में मै आपको बताऊंगा Mentally Strong कैसे बन सकते हैं? मुझे नहीं लगता कि कोई मानसिक शक्ति के साथ ही पैदा होता है पर मैं यह जरूर मानता हूं कि यह कुछ ऐसी चीजें हैं जो हम अपनी जिंदगी के रास्तों में सीखते हैं.


हमने बहुत सारे सफल लोगों के उदाहरण देखे हैं, मैं आज आपको 5 ऐसी बातें बताने वाला हूं जो मानसिक रूप से स्ट्रांग लोगों में पाई जाती है और इन्हें आप बड़ी आसानी से अपनी जिंदगी में भी ला सकते हैं.

Mentally Strong कैसे बने

पहला - देर से संतुष्टि
अधिकांश लोग विफल हो जाते हैं, फेल हो जाते हैं क्योंकि वह प्रयोग करते हैं लालच करते हैं या चुनौतियों को जल्दी से छोड़ देते हैं. Mentally Strong लोग समझते हैं कैसे ज्यादा मेहनत करनी है और ज्यादा से ज्यादा आउटपुट लाना है. यह लोग फायदे का कम और अपनी तरफ से काम पूरा करने का ज्यादा सोचते है. किसी साइंटिस्ट द्वारा इंसानों के साथ एक्सपेरिमेंट किया तो पाया कि इंसान फल की चिंता करना छोड़ देता है अगर उसे यह महसूस हो जाए उसके काम का रिजल्ट जरूर मिलेगा। 

दूसरा - बाधाओं को गले लगाना
हम मानना चाहते हैं कि हमें सारी स्वतंत्रता है और हमें लगता है कि ज्यादा फ्रीडम हमें और बेहतर बनाता है जबकि सच इसका उल्टा है. जब बहुत लोग ऐसे ही अपनी आजादी को अपना अधिकार समझने लगते हैं तब कुछ लोग उसको अपना तोहफा समझते हैं और उनकी लाइफ में आई विफलताओं को, निराशा को एक अवसर की तरह देखते हैं और डटे रहते हैं। 


तीसरा - आज्ञा न लेना
Mentally Strong लोग खुद को जिम्मेदार मानते हैं अपनी जिम्मेदारियां समझते हैं। वह अपने रास्ते बनाते हैं। उनसे गलतियां भी होती है। उन गलतियों से उन्हें कोई नहीं बचा सकता, ऐसी चीज है जो होकर ही रहेगी या जो हो चुकी है। ये ना ही उस गलती के बारे में ज्यादा सोचते हैं, न उदास होते हैं परंतु एक सीख लेकर जल्दी से जल्दी आगे बढ़ जाते हैं। 

चौथा - स्थिरता
Mentally Strong लोग पैदाइशी ऐसे नहीं होते, यह चीजें हमें लानी पड़ती है अपनी जिंदगी में, सफलता एक-दो दिन में नहीं आती इसलिए सफल लोग नियमितता का पालन करते हैं क्योंकि एक बार सफल होना तुक्का माना जाता है परंतु अगर आप सफल होने के बाद उसे बनाए रखते हैं तो उसे नियमित मेहनत कहा जाता है। नियमितता ही आपकी नई आदत स्थिरता को आपके अंदर लाती है। 

पांचवा - आशावादी होना
एक बात जो हमें आगे बढ़ाती है वह है आपकी जिज्ञासा,  अगर किसी काम के लिए आपके अंदर जिज्ञासा ही ना हो तो वह काम आप करेंगे ही नहीं और ना ही आपको कोई निराशा होगी। Mentally Strong लोग खुद पर पूरा भरोसा रखते हैं और अपनी जिज्ञासा को कभी कम नहीं करते, अपनी आशा को कभी कम नहीं करते। आशा ही प्रकाश है एक गाड़ी के लिए जो रात को सुनसान सड़क पर चलती है वो ना हो तो आपका विश्वास डगमगा जाएगा। 


मैं आपसे बस इतना कहना चाहूंगा अपने आप को मानसिक रूप से स्ट्रांग बनाने के लिए अपनी उर्जा और समय का 80% निवेश मानसिक शक्ति पर करें. ध्यान दीजिए कि आप कैसे फैसले लेते हैं और उन्हें परखिए हमेशा खतरा मोल लें, रिस्क लेना सीखे हर रोज अपने आपको कंफर्ट जोन से बाहर निकालने की, सीमाओं को तोड़ने की कोशिश करें और्व ये आपकी बॉडी को और आपको माइंड दोनों को फिट रखेगा.

अधिक जानकारी के लिय आप विकिपीडिया का मानसिक स्वास्थ्य विज्ञान लेख पढ़ सकते हैं यह भी आपकी मदद करेगा। 
Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

LIKE US ON FB

Popular Posts