Blog By Amit Tripathi

3 फ़र॰ 2019

Chanakya Niti Hindi | मुसीबत के समय में क्या करें?

Chanakya Niti हिंदी में

Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक छठवा
व्यक्ति को आने वाली मुसीबतों से निपटने के लिए धन संचय करना चाहिए, उसे धन संपदा त्यागकर भी पत्नी की सुरक्षा करनी चाहिए लेकिन यदि आत्मा की सुरक्षा की बात आती है तो उसे धन और पत्नी दोनों को बेकार समझना चाहिए.

Chanakya Niti प्रथम अध्याय श्लोक छठवा

चाणक्य इस नीति में कहते हैं कि संकट और दुख में धन ही मनुष्य के काम आता है यानी कि जबभी कोई प्रॉब्लम आती है तब हमने जो भी धन बचाया है वही हमारे काम आता हैं इसलिए चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को धन की रक्षा करनी चाहिए, पैसे बचाने चाहिए ताकि जब भी हमारी लाइफ में कोई प्रॉब्लम आये तो वह पैसे कमा आये.


फिर आगे चाणक्य कहते हैं कि पत्नी, धन से भी बढ़कर है इसीलिए पत्नी की सुरक्षा करनी चाहिए चाहे आपका धन चला जाए मगर आपको पत्नी की रक्षा करनी होगी.

वैसे आचार्य चाणक्य धन के महत्व को कम नहीं करते क्योंकि धन से व्यक्ति के अनेक कार्य हो सकते हैं लेकिन पत्नी के सम्मान की बात आती है तो धन की परवाह नहीं करनी चाहिए. परिवार की मान मर्यादा स्त्री में छुपी होती है इसीलिए चाणक्य कहते हैं कि प्रथम महत्व परिवार की महिलाओं का होना चाहिए.

फिर आगे चाणक्य कहते है जब आत्मा की बात आती है तो धन और स्त्री दोनों की चिंता छोड़ देनी चाहिए और आत्मा को प्रथम स्थान देना चाहिये.
Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

Join Us On Telegram

Join Us On Telegram
Stay Updated

LIKE US ON FB

Popular Posts