A Fastest Growing Hindi Blog

14 अग॰ 2018

नाग पंचमी का महत्व, जानिए नाग पंचमी क्यों मनायी जाती है

नाग पंचमी का महत्व

सावन महीने में आने वाले महत्वपूर्ण त्योहारों में एक नाग पंचमी का त्यौहार भी है। सांप अर्थात नाग का हिंदू पौराणिक कथाओं में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि उन्हें पाताल लोक या नाग लोक के निवासी भी माना जाता है। ग्रंथों में सापों को एक समुदाय के रूप में माना जाता है. नाग पंचमी के दिन मनसा देवी की भी विशेष रूप से पूजा की जाती है उनका मंदिर बिल्वा पर्वत पर स्थित है, जो दक्षिणी हिमालयी श्रृंखला शिवलिक पर्वत पर स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि मनसा देवी, भगवान शिव के मन से प्रकट हुईं उन्हें सांप वासुकी की बहन भी कहा जाता है। माना जाता है इस दिन मनसा देवी माता की मन से पूजा करने पर वो अपने भक्तों की सभी उचित इच्छाओं को पूरा करती है।


नाग पंचमी का महत्व
इस दिन नाग को दूध चढ़ाया जाता है और चावल पेश किया जाता है और परिवार को और कुल संरक्षण देने के लिए प्रार्थना की जाती है। पूरे भारत और नेपाल में, नाग पंचमी विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है। कुछ स्थानों पर चतुर्थी पर सांप पूजा की जाती है जिसे नागा चतुर्थी भी कहा जाता है।

वर्ष 2018 में नाग पंचमी कब है?

वर्ष 2018 में नाग पंचमी 15 अगस्त को मनाई जाएगी जिस दिन भारत में स्वतंत्रता दिवस भी है। 

सांपों का हिन्दू धर्म में महत्त्व

प्राचीन काल से ही सांपों को हिंदू धर्म में एक प्रमुख स्थान दिया गया है। कई हिंदू देवताओं को साँपों के साथ दिखाया जाता है जैसे - भगवान विष्णु शेषनाग के आसन पर सोते हैं। भगवान शिव अपने गहने के रूप में सांप पहनते हैं इसके अलावा गणेश भगवन भी सांपों के साथ दिखाए जाते हैं इसलिए ऐसा कहा जा सकता है की हिंदू इतिहास में बहुत लंबे समय से सांपों की पूजा कर रहे हैं।


नाग पंचमी से जुडी कहानियां

इस दिन से कई पौराणिक कथाओं जुडी है जिनके अनुसार, एक घातक सांप कालिया यमुना नदी को जहरीला कर रहा था और ब्रज के निवासियों के लिए पानी पीना मुश्किल हो गया था। कृष्णा जिन्हें भगवान विष्णु के एक अवतार के रूप में माना जाता है, एक दिन नदी में गिरने वाली गेंद के कारण बहस बहाने कलिया के साथ झगड़ा करते है और अंततः उसे पराजित करते है। कालिया हार मान लेता है और नदी से सभी जहर दूर ले जाता है और कृष्ण बदले में उसे आशीर्वाद देते हैं कि पंचमी के इस दिन जो भी सांपों को दूध चढ़ाएगा और प्रार्थना करेगा वो आने वाले समय में सभी कठिनाइयों से दूर रहेगा। इस प्रकार से उस दिन से नागपंचमी दिवस के रूप में मनाया जाता था। 

Share:

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

LIKE US ON FB

Popular Posts