A Hindi Blog About Motivation,Earn Money Online and New Technology

29 Nov 2017

अगर आप उदास होते है तो यह कहानी जरूर पढ़े

एक बार एक आदमी एक संत के पास जाता है और अपनी समस्या बताता है की संत जी मेरी जिंदगी में कोई खुशी नहीं आती, सोचा था जब मेरी नौकरी लगेगी तब पिताजी को एक कार गिफ्ट करूंगा पर यह भी ना हो सका क्योंकि मेरी नौकरी मिलने से पहले ही उनका देहांत हो गया फिर सोचा था की जब प्रमोशन मिलेगा तो अपने बच्चों को कहीं बाहर घुमाने ले कर जाऊंगा लेकिन प्रमोशन ही नही हुआ. ऐसी ही और भी बहुत सी ऐसी खुशियां थी जिनके लिए मैं इंतजार करता रह गया लेकिन मुझे वह कभी मिली ही नहीं. मुझे यह बात समझ ही नहीं आती कि क्या मुझे कभी खुशियां मिलेंगी भी या नहीं. संत उठे और उस आदमी को पास वाले गार्डन में लेकर गए यहाँ एक लाइन में बहुत से गुलाब के फूल लगे हुए थे उन्होंने उस आदमी को कहा की एक काम करो लाइन से यह फूल देखते जाओ और जो सबसे सुंदर फूल लगे उसको तोड़ लेना लेकिन एक बात याद रखना कि एक बार जिस फूल से आगे निकल गए तो फिर तुम्हे वापस नहीं आना है मतलब किसी फूल से आगे निकल जाने के बाद तुम उस फूल को लेने पीछे वापिस नही आ सकते और हाँ कोई एक फूल लाना भी जरुरी है वो आदमी चलता गया तो उसको कुछ बड़े फूल दीखते तो कुछ छोटे फूल हर फूल पर पहुंचकर वह इसी सोच के साथ उसको छोड़ देता कि कहीं इस से सुंदर फूल आगे हुए तो.....

Hindi Shore Stories
इस प्रकार जब वो उस लाइन के तकरीबन समाप्ति तक पहुंचा तब उसने देखा कि अब सिर्फ मुरझाए हुए से कुछ फूल ही बचे हैं और उनमें से उसको जो सबसे खीला हुआ फूल दिखा वो उसे तोड़कर अपने साथ संत जी के पास ले गया और बोला की संत जी मुझे रास्ते में कई बड़े और छोटे सुंदर फूल दिखे थे लेकिन मै इसी आश में आगे चलता गया की कोई और सुन्दर फूल मिलेगा लेकिन आखिर में सिर्फ मुरझाये हुए फूल ही बचे थे तब वो संत मुस्कुराये और बोले बेटा तुम सबसे सुंदर फूल की तलाश में आगे बढ़ते गए पर जितने सुंदर फूल थे उनकी जगह यह मुरझाया हुआ फूल लेकर आये ऐसा ही हमारी ज़िन्दगी में होता है मान लो यह गार्डन तुम्हारी जिंदगी है और यह फूल उस जिंदगी के सफर में आने वाली छोटी बड़ी खुशियां है जैसे तुम यह सोच कर चलते गए की आगे और सुंदर फूल मिलेगा और बाकी फूलों की खूबसूरती को नज़रअंदाज़ करते रहे ठीक उसी तरह जिंदगी में आने वाली छोटी-छोटी खुशियों को हम नज़रअंदाज़ कर जाते हैं एक बड़ी खुशी की तलाश में और जब तक यह समझ आता है जिंदगी निकल चुकी होती है।


इसलिए दोस्तों छोटी-छोटी खुशियों में खुस रहना सीखो, बड़ी खुशियों के इन्तजार में इन छोटी खुशियों को नजरअंदाज न करो। अगर यह पोस्ट पसंद आयी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले।

Share:

0 comments:

Post a Comment

LIKE US ON FB