A Hindi Blog About Motivation,Earn Money Online and New Technology

11 Dec 2017

8 Pregnancy tips for Normal Delivery in hindi

Pregnancy tips for Normal Delivery in hindi

Pregnancy यानि गर्भावस्था हर महिला के लिए एक ख़ास अनुभव होता है लेकिन गर्भावस्था में खुशियों के साथ साथ महिला के मन में कुछ विचार भी आ जाते है जैसे उसकी नार्मल डिलीवरी होगी या नही। लगभग हर महिला चाहती है की उसकी नार्मल डिलीवरी हो लेकिन हर महिला के साथ यह संभव नही हो पाता क्योकि इसका नियंत्रण वो स्वयं नही कर सकती।
Pregnancy tips for Normal Delivery in hindi
पहले नार्मल डिलीवरी एक सामान्य बात थी और आसानी से हो जाती थी लेकिन आजकल की जीवनशैली और खानपान से नार्मल डिलीवरी की दर लगातार कम हो रही है लेकिन फिर भी अगर गर्भावस्था के दौरान कुछ बातों का ध्यान रखा जाये तो नार्मल डिलीवरी संभव है इसलिए आज की ये पोस्ट उन सभी महिलाओं के लिए बहुत जरूरी है जो चाहती है की उनकी नार्मल डिलीवरी हो।

तो आइये जानते है Normal Delivery tips for Pregnant lady in hindi -

 1- कीगेल व्यायाम - 
Kegel Exercise गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के लिए बहुत उपयोगी है. कीगेल व्यायाम लगातार करने से प्रसव के दौरान होने वाले दर्द को सहने में भी मदद मिलती है।

हम इस पोस्ट में आपको कीगेल व्यायाम करना नही बता रहे है क्योकि इससे यह पोस्ट बहुत लम्बा हो जाएगा। कीगेल व्यायाम कैसे करते है यह जानने के लिए आप गूगल या YouTube की मदद ले सकते है लेकिन याद रहे गर्भावस्था के दौरान गलत तरीके से व्ययाम करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है इसलिए किसी एक्सपर्ट से राय लेकर कीगेल व्यायाम करे तो यह बेहतर होगा।

2 - स्विमिंग यानि तैराकी
Normal Delivery tips for Pregnant lady in hindi
तैराकी भी गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत ही उपयोगी एक्सरसाइज है, यह एक्सरसाइज आपकी Heart Beat नार्मल रखती है, मांसपेसियों को ठीक रखती है और आपके शरीर को फिट रखती है।

3 - योगा
Pregnancy tips for Normal Delivery in hindi

योगा किसी भी अवस्था में हमारे शरीर के लिए उपयोगी होता है लेकिन गर्भावस्था के दौरान योगा का महत्त्व और बढ़ जाता है। योग करने से आपके शरीर में फ्लेक्सेबिलिटी आती है और श्वसन क्रिया में नियंत्रण रहता है साथ ही आप शांत महशूस करते है लेकिन गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार का योग किसी एक्सपर्ट की देख रेख में ही करें।

वक्रासन, उत्कटासन, कोनासन, भद्रासन और पर्वतासन कुछ ऐसे आसन है यो गर्भावस्था के दौरान बहुत उपयोगी होते है।

4 - श्वास संबंधित व्यायाम
डिलीवरी के दौरान समय समय पर अपनी श्वास को कुछ समय के लिए रोकना पड़ सकता है इसलिए श्वास संबंधित व्यायाम कीजिये जिससे डिलीवरी के दौरान कोई समस्या न आये।

इसके लिए आप कुछ सेकंड श्वास लेने के बाद इसे होल्ड रखे और धीरे धीरे श्वास छोड़े लेकिन याद रहे बच्चे के विकास के लिए उसे पर्याप्त मात्र में ऑक्सीजन मिलना जरूरी है इसलिए श्वास संबंधित व्यायाम करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लें।


5 - टहलना
Normal Delivery tips for Pregnant lady in hindi
गर्भावस्था के दौरान सबसे आसान और सबसे ज्यादा फिट रहने का तरीका है टहलना इसलिए जितना ज्यादा टहल सकते है टहलें। हर डॉक्टर गर्भावस्था के दौरान टहलने की सलाह देता है क्योकि ये आपके और आपके बच्चे, दोनों की सेहत के लिए अच्छा है। गर्भावस्था के दौरान आपको 30 मिनट सुबह और 30 मिनट शाम को टहलना चाहिये।

6 - स्वस्थ आहार
आपको अपने और अपने होने वाले बच्चे के विकास के लिए पर्याप्त मात्र में स्वस्थ आहार लेना जरूरी है। नार्मल डिलीवरी के लिए माँ को पूरी तरह स्वस्थ होना जरूरी होता है और इसके लिए गर्भावस्था के दौरान भरपूर मात्र में स्वस्थ आहार लेने की आवश्यकता होती है।

इसके अलावा ज्यादा से ज्यादा पानी पिए, फलों का रोजाना सेवन करे और अपने भोजन में हरी सब्जियों की मात्र बढ़ाएं।

7 - पर्याप्त नींद
Pregnancy tips for Normal Delivery in hindi

गर्भवती महिला को रोजाना कम से कम 8 से 10 घंटे की नींद लेनी चाहिये। पर्याप्त नींद लेना बच्चे और माँ दोनों की सेहत के लिए जरूरी है। पर्याप्त नींद लेने से पुरे दिन की थकावट दूर हो जाती है और अगले दिन आप तरोताज़ा महसूस करती है।

अच्छी नींद लेने के लिए अपने कमरे की लाइट कम रखे और सोने से 2 घंटा पहले चाय या कॉफ़ी का सेवन न करें।

8 - तनाव मुक्त रहे -
आखिरी और सबसे जरूरी बात गर्भावस्था के दौरान हमेशा खुस और तनाव मुक्त रहे, यह बात आपके डॉक्टर ने भी आपको जरूर बोली होगी क्योकि स्वस्थ और नार्मल डिलीवरी होने के लिए ये सबसे ज्यादा जरूरी भी है।

तनावमुक्त रहने के लिए पॉजिटिव किताबें पढ़े, सकारात्मक विडियो देखे और हो सके तो खुस और अच्छे लोगो की संगत में रहें।

You May Also Like
loading...
Share:

2 Dec 2017

Vishal Krishna wiki | Biography | Family | Wife All info in hindi

Vishal Krishna wiki | Biography | Family | Wife All info in hindi

Vishal Krishna जिन्हे सिर्फ विशाल नाम से भी जाना जाता है एक इंडियन तमिल फिल्म अभिनेता हैं. Vishal Krishna का जन्म 29 अगस्त 1977 को हुआ था. इनके पिता का नाम G.K.Reddy और माता का नाम Janaki Devi है। 
vishal wiki

Vishal Krishna की कुछ Upcoming Movies -
Madha Gaja Raja (MGR) ( Tamil )Abhimanyudu ( Telugu ), Irumbu Thirai ( Tamil)



Vishal Krishna Actor Wiki, Age, Height, Weight, Biography, Wife, Family, Profile हिंदी में -

Real Name - Vishal Krishna

Nickname - Vishal

Profession - अभिनेता

Age - 40 

Date of Birth (DOB) - 29 अगस्त 1977

Birthplace - चेन्नई तमिलनाडु, इंडिया

Debut - Chellamae (2004)

Height in Centimeters - 185 cm

Height in Inches - 6' 1"

Weight in Kilograms - 65 Kg

Chest Size - 42 Inches

Biceps Size - 14 Inches

Eye Color - Dark Brown

Hair Color - कला


Father - G. K. Reddy

Mother - Janaki Devi

Brother - Vikram Krishna

Sister - Aishwarya

Religion - हिन्दू

Marital Status - Unmarried

Girlfriends - ज्ञात नहीं

Wife/ Spouse - N/A

Son - N/A

Daughter - N/A

Educational Qualification - Degree in Visual Communications

School - N/A



College/ University - Loyola College, Chennai
Share:

30 Nov 2017

त्राटक साधना की पूरी जानकारी हिंदी में | Tratak Sadhana in Hindi

मोमबत्ती ये एक छोटी से चीज है लेकिन आपको शायद पता नहीं की आप के घरों में रखी ये छोटी सी मोमबत्ती आपके मन और दिमाग को कितना फायदा पहुंचा सकती है जब आप मोमबत्ती को देखते हो तब आपके दिमाग में बहुत कुछ होना शुरू हो जाता है एक मोमबत्ती के प्रकाश में असल में बहुत शक्ति होती है जिसका इस्तेमाल आप अपनी जिंदगी में अपने फायदे के लिए कर सकते हो Candle Gazing यानि त्राटक एक ऐसी चीज है जो आपके आंखों की रोशनी तो बढ़ाती ही है पर यह रोशनी बढ़ाने वाली बात तो सिर्फ ट्रेलर है पूरी फिल्म आपको आज पता चलने वाली है त्राटक के जो असल फायदे हैं उन्हें सुनकर आप भी चौक जाओगे. दिमाग के कई एक्सपर्ट का यह मानना है कि आप अपने दिमाग की 80% शक्तियों को उन चीजों को सोचने में लगाते हो जिसकी आपको जरुरत बिल्कुल भी नहीं जिसे सामान्य तौर पर Overthinking कहा जाता है आप Overthinking से तभी छुटकारा पा सकते हो जब आप अपने दिमाग को शांत होना सीखा दो. शांत दिमाग से आप अपने किसी भी काम को अच्छे से कर सकते हो और यही शांत दिमाग त्राटक का एक बहुत बड़ा फायदा है त्राटक से आपका दिमाग शांत होता है दिमाग में चलने वाली आवाज बहुत कम हो जाती है त्राटक एक संस्कृत शब्द है इसका मतलब है एक जगह पर ध्यान लगाने का तरीका, त्राटक से आपके मन और आपके शरीर के ऊपर बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है।


Tratak Sadhana in Hindi

त्राटक साधना या मैडिटेशन करने की विधि -

आप एक मोमबत्ती को अपने आप से 1.5 हाथ की दूरी पर रख लें ज्यादा ऊपर या ज्यादा नीचे न रखिये ऐसी जगह पर रखें जहां पर आप आराम से मोमबत्ती को देख सको फिर उसे लगातार देखना शुरु करें और तब तक देखते रहें जब तक आप लगातार उसे देख सकते है देखने के दौरान आपकी आंखों में पानी आ सकता है लेकिन यह बिलकुल नॉर्मल है. शुरुवात में यह क्रिया ज्यादा देर तक न करें धीरे धीरे समय बढ़ाये।

त्राटक साधना करने के लाभ -

यह क्रिया बहुत आसान है और बहुत लाभदायक भी त्राटक से आप अपने अंदर की पोटेंशियल यानि काबिलियत को जागृत कर सकते हो इसे हजारों सालों से बड़े-बड़े महापुरुषों ने आजमाया है. रोजाना अगर आप 5 मिनट भी त्राटक करोगे तो कुछ ही दिनों में आपकी जिंदगी बदल जाएगी. आपको ऐसे ऐसे सकारात्मक अनुभव होंगे जिसके बारे में आपने कभी सोचा भी नहीं, त्राटक का जो सबसे प्रसिद्ध लाभ है वह है ध्यान लगाने की शक्ति बढ़ना. आपके ध्यान लगाने की शक्ति बढ़ेगी तो आपके काम करने की शक्ति भी बढ़ जाती है चाहे आप कोई भी काम कर रहे हो ध्यान लगाने की शक्ति बहुत जरूरी है त्राटक की शुरुआत ही ध्यान लगाने से होती है त्राटक में आप एक चीज को लंबे समय तक देखते हो लंबे समय तक देखने से आपके एक ही चीज को बहुत देर तक देखने की आदत पड़ने लगती है और फिर वही आदत आपकी बाकी कार्यों में भी लागू होने लगती है जैसे अगर आप एक स्टूडेंट हो तब आपको पढने में ध्यान लगाने में कभी कोई परेशानी नही होगी और आप बिना किसी रूकावट के लंबे समय तक पढ़ पाओगे और वह भी बिना किसी थकावट के, इसके चलते आपको जिंदगी की हर फील्ड में सफलता मिलनी शुरू हो जाती है कोई भी काम आप जब करते हो तब उसमें आपको दिमाग की शक्ति के जरिए इनपुट देना होता है और फिर जिस ऊर्जा की स्तर पर आप काम करते हो यानि इनपुट देते हो उसी के हिसाब से आपको आउटपुट यानी उसका परिणाम मिलता है तो आप कितनी देर तक अपनी ऊर्जा किसी काम में दे पा रहे हो ये आपके ध्यान की शक्ति पर ही निर्भर करता है।


आपके दिमाग में इंटेलिजेंस पावर यानि बुद्धि और स्मरणशक्ती यानि मेमोरी होती है तथा इसके अलावा एक और चीज होती है जिसे क्रिएटिविटी पावर कहते हैं इसका मतलब होता है रचनात्मक शक्ति त्राटक से आप की रचनात्मक शक्ति कई गुना बढ़ जाती है, जिंदगी के किसी भी फील्ड में आपको रचनात्मक शक्ति की जरूरत पड़ती ही पड़ती है आप चाहे कुछ भी करें आप हमेशा अपनी क्रिएटिविटी यानी अपनी रचनात्मकता का इस्तेमाल करते हो किसी भी योजना को जब आप अपने दिमाग में बनाते हो तब उसे अपनी जिंदगी में कितना सच कर पाते हो और कितना नहीं यह आपकी रचनात्मक शक्ति पर ही निर्भर है मतलब आप अपने दिमाग में कुछ प्लान करते हो और फिर उसे असल जिंदगी में पूरा नहीं कर पाते हो इसका मतलब आपकी रचनात्मक शक्ति कम है हर इंसान में यह अलग अलग होती है तो इस शक्ति को बढ़ाने का सबसे सरल तरीका है त्राटक, जो लोग मेडिटेशन यानि ध्यान को सालों से प्रैक्टिस करते आ रहे हैं उन लोगों का यह मानना है कि त्राटक के रोजाना अभ्यास से आपकी तीसरी आँख खुलने लगती है अब कुछ लोग बोलेंगे की “अरे, किस जमाने में जी रहा है तू” तो मै उन्हें बता दू की भाई “मै भी आधुनिक ज़माने में रहने वाला इंसान ही हुं और मैं भी आधुनिक दुनिया में इस्तेमाल होने वाली सभी नयी टेक्नोलॉजी इस्तेमाल करता हूं” लेकिन तीसरी आंख जैसी चीज सच में होती है मै बिना रिसर्च किये अपनी पोस्ट में कुछ भी नही लिखता. मै जानता हु की आपको इससे ज़रुर फायदा होगा इसलिए मैं यह सब लिख रहा हूं त्राटक से आपकी लॉजिकल पावर यानि किसी भी चीज को समझने की शक्ति और तर्क करने की शक्ति बढ़ जाती है सबसे लॉजिकल सब्जेक्ट जैसे मैथ यानी गणित में भी आपको सब कुछ पूरी तरह से समझ आने लगता है एक लाइन में बोलूं तो सीधी-सीधी बात है कि अगर आप एक विद्यार्थी हो तब आप के लिए यह त्राटक विद्या करोड़ो रुपए के बराबर है आपके अंदर की जो इमोशंस यानि भावना है वह आपकी जिंदगी के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण होती है. भावनाएं तब तक ठीक होती है जब तक यह एक सीमा के अन्दर हो लेकिन भावनाएं जब हद से ज्यादा होने लगती है तब यह आपके लिए एक समस्या बन जाती है और त्राटक से आप यही भावनात्मक कंट्रोल पाते हो जिसके चलते आप अपनी भावनाओं को अपने काबू में करने में कामयाब रहते हो इसे आप आराम से नियंत्रण कर लेते हैं त्राटक आपको रिलैक्स करती है जब भी काम की प्रेशर के चलते आपको दिमागी थकान होने लगे तब 2 से 3 मिनट की त्राटक भी आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकती है. आपका दिमाग बिल्कुल शांत होता है जब आप उस मोमबत्ती की रोशनी को देखते हो. त्राटक का सबसे बेस्ट फायदा जो आपके काम का है और जिसे पाने के लिए लाखों लोग लाखों तरीके अपनाते हैं वह है मेमोरी पावर यानि स्मरण शक्ति को बढ़ाना, स्मरण शक्ति का इस्तेमाल भी जिंदगी के हर कोने में होता है उस मोमबत्ती को देखते समय आपका दिमाग़ बिल्कुल एक जगह पर होता है और उसी समय आपके दिमाग के अंदर की न्यूरांस मजबूत होने लगते हैं जिसके चलते आप किसी भी चीज को बहुत दिन तक याद रख पाते है।

You May Also Like
loading...
Share:

रक्तदान पर हिंदी स्लोगन | Blood Donation in Hindi Slogans

दोस्तों जैसा की हम सभी जानते है रक्तदान महादान होता है और हर एक व्यक्ति को समय समय पर रक्तदान अवश्य करना चाहिये, रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए आज हम आपके साथ शेयर करने जा रहे है रक्तदान पर हिंदी स्लोगन (Blood Donation in Hindi Slogans) अगर आपको यह स्लोगन पसंद आये तो इसे दूसरों के साथ भी जरूर शेयर करें याद रहे आपका एक शेयर किसी का जीवन बचा सकता है।


Blood Donation in hindi slogans

1 - एक बोतल खून ने मेरी जान बचाई क्या वो आपका था ?
2 - दिया खून न व्यर्थ जाएगा एक दिन में वापिस आएगा
3 - खूनदान करके देखिये बहुत अच्छा लगता है यारो !
4 - रक्तदान है बहुत जरूरी इससे नहीं होती ज़रा भी कमज़ोरी
5 - रक्तदान करना हम सब का फर्ज बनता है यह सब का सांझा धर्म है।
6 - रक्तदान एक महान समाजिक काम है इसीलिए जब भी मौका मिले जरूर रक्तदान करें।
7 - रक्तदान का असली मूल्य उस वक्त पता चलता है जब कोई हमारा जिंदगी के लिए जद्दोजहद कर रहा हो और उसे खून की सख्त जरूरत हो।
8 - आपका रक्तदान जिंदगी से जूझ रहे लोगों को एक नया जीवन देता है।


9 - पल दो पल का काम है, रक्तदान श्रीमान दिनचर्या में आएगा, नहिं तनिक व्यवधान
10 - ब्लड डोनेशन कीजिये, समय समय पर आप मन में आये पुण्यता, तन होगा निष्पाप
11 - दुनिया बदलें आज रक्त दें।
12 - माँ के आंसूं उसके बच्चे की जान नहीं बचा सकते। लेकिन आपका खून बचा सकता है।
13 - किसी का जीवन बचाना आपके खून में है।
14 - रक्तदान करने में आपका कुछ नहीं लगेगा लेकिन इससे एक ज़िन्दगी बच जायेगी।

15 - मेरा बेटा घर वापस है क्योंकि आपने रक्तदान किया था।

You May Also Like
loading...
Share:

29 Nov 2017

नववर्ष के मैसेज हिंदी में | Happy new year Wishes in hindi

दोस्तों आज हम आपके साथ शेयर करने जा रहे है नववर्ष के स्नेह भरे मैसेज हिंदी में ताकि आप अपने चाहने वालों को ये प्यार भरे सन्देश सबसे पहले भेज कर अपना रिश्ता और मजबूत कर सके और आपके रिश्तों में प्यार सदा बना रहे

Happy new year in hindi

Happy new year in Hindi - 1
भुलाकर सारे दुःख भरे पल; दिल में बसा लो आने वाले कल को; मुस्कुराओ खुल कर चाहे जो भी हो पल; क्योंकि आ रहा है नया साल लेकर खुशियों के पल। नव वर्ष की शुभकामनायें!


Happy new year in Hindi - 2
नव वर्ष की पावन बेला में है यही शुभ संदेश; हर दिन आए आप के जीवन में लेकर ख़ुशियाँ विशेष। नव वर्ष की शुभकामनाएं!
Happy new year in Hindi - 3
नया साल आया बनकर उजाला; खुल जाए आपकी किस्मत का ताला; हमेशा आप पर मेहरबान रहे ऊपर वाला; यही दुआ करता है आपका ये चाहने वाला। नया साल मुबारक।
Happy new year in Hindi - 4
भगवान करे ये साल आपको रास आ जाये; जिसे आप चाहते हो, वो आपके पास आ जाये! आप नए साल में कुंवारे न रहे; आपका रिश्ता लेकर आपकी सास आ जाये! नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!
Happy new year message in Hindi - 5
नया साल आपके लिये सुख और सम्मृधि से भरपूर हो, मुस्कान से भरा नए साल, नए साल मे ईश्वर अपनी अनुकम्पा आप पर बनाए रहे, नव वर्ष की शुभ कमनायें,नया साल मुबारक हो.
Happy new year message in Hindi - 6
आपकी आँखों में सजे हैं जो भी सपने; और दिल में छुपी हैं जो भी अभिलाषाएं; यह नया वर्ष उन्हें सच कर जाए; आपके लिए यही है हमारी शुभकामनाएं! नव वर्ष की शुभकामनाएं!


Happy new year message in Hindi - 7
इस नए साल में, जो तू चाहे वो तेरा हो; हर दिन खूबसूरत और रातें रौशन हों; कामयाबी चूमती रहे तेरे कदम हमेशा यार; मुबारक हो तुझे नया साल मेरे यार!
Happy new year message in Hindi - 8
वफ़ा के रंग में डूबी हर शाम तेरे लिए , यह डगर यह नगर,मेरा नाम बस तेरे लिए, तू महेकती रहे चांदनी रातों की तरह, इस नए साल का पैगाम तेरे लिए
Happy new year message in Hindi - 9
आ गले लग जा मेरे यार दे दूं जादू की झप्पी दो, चार ऐसे ही कट जाये जिंदगी विदाउट एनी रिस्क इस उम्मीद के साथ विश यू ए … वैरी हैप्पी न्यू इयर
New year wishes in Hindi - 10
मुबारक हो तुम्हे नववर्ष का महिना ! चमको तुम जैसे फागुन का महिना !! पतझर न आये तेरी जिन्दगी में ! यही हैं दोस्त अपनी तम्मना !! हैप्पी न्यू ईयर शायरी मैसेज


New year wishes in Hindi - 11
बीत गया जो साल, भूल जाएँ, इस नए साल को गले लगायें, करते है दुआ हम रब से सर झुकाके. एस साल क सरे सपने पुरे हो आपके

You May Also Like
loading...
Share:

अगर आप उदास होते है तो यह कहानी जरूर पढ़े

एक बार एक आदमी एक संत के पास जाता है और अपनी समस्या बताता है की संत जी मेरी जिंदगी में कोई खुशी नहीं आती, सोचा था जब मेरी नौकरी लगेगी तब पिताजी को एक कार गिफ्ट करूंगा पर यह भी ना हो सका क्योंकि मेरी नौकरी मिलने से पहले ही उनका देहांत हो गया फिर सोचा था की जब प्रमोशन मिलेगा तो अपने बच्चों को कहीं बाहर घुमाने ले कर जाऊंगा लेकिन प्रमोशन ही नही हुआ. ऐसी ही और भी बहुत सी ऐसी खुशियां थी जिनके लिए मैं इंतजार करता रह गया लेकिन मुझे वह कभी मिली ही नहीं. मुझे यह बात समझ ही नहीं आती कि क्या मुझे कभी खुशियां मिलेंगी भी या नहीं. संत उठे और उस आदमी को पास वाले गार्डन में लेकर गए यहाँ एक लाइन में बहुत से गुलाब के फूल लगे हुए थे उन्होंने उस आदमी को कहा की एक काम करो लाइन से यह फूल देखते जाओ और जो सबसे सुंदर फूल लगे उसको तोड़ लेना लेकिन एक बात याद रखना कि एक बार जिस फूल से आगे निकल गए तो फिर तुम्हे वापस नहीं आना है मतलब किसी फूल से आगे निकल जाने के बाद तुम उस फूल को लेने पीछे वापिस नही आ सकते और हाँ कोई एक फूल लाना भी जरुरी है वो आदमी चलता गया तो उसको कुछ बड़े फूल दीखते तो कुछ छोटे फूल हर फूल पर पहुंचकर वह इसी सोच के साथ उसको छोड़ देता कि कहीं इस से सुंदर फूल आगे हुए तो.....

Hindi Shore Stories
इस प्रकार जब वो उस लाइन के तकरीबन समाप्ति तक पहुंचा तब उसने देखा कि अब सिर्फ मुरझाए हुए से कुछ फूल ही बचे हैं और उनमें से उसको जो सबसे खीला हुआ फूल दिखा वो उसे तोड़कर अपने साथ संत जी के पास ले गया और बोला की संत जी मुझे रास्ते में कई बड़े और छोटे सुंदर फूल दिखे थे लेकिन मै इसी आश में आगे चलता गया की कोई और सुन्दर फूल मिलेगा लेकिन आखिर में सिर्फ मुरझाये हुए फूल ही बचे थे तब वो संत मुस्कुराये और बोले बेटा तुम सबसे सुंदर फूल की तलाश में आगे बढ़ते गए पर जितने सुंदर फूल थे उनकी जगह यह मुरझाया हुआ फूल लेकर आये ऐसा ही हमारी ज़िन्दगी में होता है मान लो यह गार्डन तुम्हारी जिंदगी है और यह फूल उस जिंदगी के सफर में आने वाली छोटी बड़ी खुशियां है जैसे तुम यह सोच कर चलते गए की आगे और सुंदर फूल मिलेगा और बाकी फूलों की खूबसूरती को नज़रअंदाज़ करते रहे ठीक उसी तरह जिंदगी में आने वाली छोटी-छोटी खुशियों को हम नज़रअंदाज़ कर जाते हैं एक बड़ी खुशी की तलाश में और जब तक यह समझ आता है जिंदगी निकल चुकी होती है।


इसलिए दोस्तों छोटी-छोटी खुशियों में खुस रहना सीखो, बड़ी खुशियों के इन्तजार में इन छोटी खुशियों को नजरअंदाज न करो। अगर यह पोस्ट पसंद आयी तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले।

Share:

26 Nov 2017

रानी पद्मिनी उर्फ़ पद्मावती का इतिहास

यह कहानी है चित्तौड़ की खूबसूरत रानी पद्मावती और उनकी खूबसूरती के पीछे पागल सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी की, रानी पद्मावती जिनको पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है इनका नाम इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा गया है रानी पद्मावती के पिता सिंध प्रांत के राजा थे जो आज के समय में श्रीलंका में पड़ता है उनका नाम गंधर्व सेन था और माता का नाम चंपावती था. रानी पद्मावती बाल्यकाल से ही अत्यंत खूबसूरत और मनमोहन थी महाराज गंधर्व सेन ने अपनी पुत्री के विवाह के लिए स्वयंवर रचाया था जिस में भाग लेने के लिए भारत के अलग-अलग राज्यों से बड़े-बड़े राजा महाराजा आए हुए थे, उसी स्वयंवर में मौजूद थे चित्तौड़ के राजा राजा रवल रतन सिंह, रानी पद्मावती का विवाह स्वयंवर विजेता चित्तौड़ के राजा रवल रतन सिंह के साथ बड़े ही धूमधाम से हुआ।


राजा रतन सिंह एक बहादुर और साहसी योद्धा थे वह एक प्रिय पति होने के साथी ही एक बेहतर शासक भी थे वे चित्तौड़ के राज्यों को बड़े कुशल तरीके से चला रहे थे उनके शासन में वहां की प्रजा हर तरीके से सुखी थी राजा रतन सिंह को कला में भी काफी रुचि थी उनके दरबार में काफी बुद्धिमान लोग थे उनमें से एक प्रसिद्ध संगीतकार राघव चेतन भी मौजूद थे जो रतन सिंह के काफी प्रिय थे ज्यादातर लोगों को इस बात की जानकारी नहीं थी की एक राघव चेतन एक जादूगर भी था वह अपनी इस कला का उपयोग शत्रुओं को चकमा देने या अचंभित करने के लिए आपातकालीन समय में इस्तेमाल करता था एक दिन राघव चेतन काला जादू करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया जब राजा को इस बारे में पता चला कि राघव चेतन गुप्त रुप से काला जादू करता है राजा ने उसे राज्य से अपमानित करके निकाल दिया इसके बाद राघव चेतन ने दिल्ली की तरफ जाने की ठानी और वहाँ जाकर वह दिल्ली के पास एक घने जंगल में छिपा रहा जहाँ सुलतान (अलाउद्दीन खिलजी) अक्सर शिकार के लिए आया करता था एक दिन सुलतान शिकार करने पहुचे ही थे तभी राघव चेतन ने बाँसुरी बजाना शुरू कर दिया बाँसुरी की आवाज सुनकर सुल्तान ने बाँसुरी बजाने वाले को ढूढने का आदेश दिया तब राघव चेतन स्वयं उनके सामने आए तभी सुल्तान ने उससे अपने साथ दिल्ली के दरबार में आने का आदेश दिया और दिल्ली जाकर राघव चेतन ने चित्तौड़ राज्य की सैन्य शक्ति, चित्तौड़ की सुरक्षा, वहाँ की संपत्ति और वहाँ के साम्राज्य से जुड़ा एक-एक राज्य खोल दिया यहाँ तक की राघव चेतन ने दिल्ली के सुल्तान को चित्तौड़ के राजा रवल रतन सिंह की धर्मपत्नी रानी पद्मिनी की खूबसूरती के बारे में भी बताया उनकी ख़ूबसूरती के बारे में सुनने के बाद अलाउद्दीन उन्हें मन ही मन चाहने लगा था राघव चेतन की बातें सुनकर अलाउद्दीन खिलजी ने कुछ ही दिनों में चित्तौड़ पर आक्रमण करने का मन बना लिया और अपनी एक विशाल सेना चित्तौड़ के लिए रवाना कर दी।

चित्तौड़ पहुचते ही अलाउद्दीन के हाथ निराशा लगी क्योंकि उन्होंने पाया की चित्तौड़ को चारों तरफ से सुरक्षा प्रदान की गई है लेकिन वो रानी पद्मिनी की सुन्दरता को देखने का और इंतजार नहीं कर सकता था  इसलिए उसने राजा रतन सिंह के लिए यह संदेश भेजा की वह रानी पद्मिनी को बहन मानते हैं और उनसे मिलना चाहते हैं खिलजी के इस अजीब मांग को राजपूत मर्यादा के विरुद्ध बताकर राजा रतन सिंह ने ठुकरा दिया लेकिन निराश रतन सिंह को अपने साम्राज्य को अलाउद्दीन के प्रकोप से बचाने का एक मौका दिखाई दिया रानी पद्मावती सुल्तान को अपनी झलक दिखाने को तैयार तो हो गई लेकिन केवल प्रतिबिम्ब में इसके लिए किले के एक ऊँचे बुर्ज में अलाउद्दीन खिलजी को खड़ा किया गया उसके सामने एक आईना लगा दिया गया वहाँ बुर्ज के एकदम नीचे एक तालाब था जो बुर्ज में लगे आईने में साफ दिखाई देता था तालाब के किनारे रानी पद्मावती खड़ी हो गई रानी पद्मावती का प्रतिबिम्ब तालाब के पानी में पड़ा और तालाब का प्रतिबिम्ब आईने में दिखाई दिया और इस तरह पहली बार सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने रानी पद्मावती के रूप को देखा पद्मावती के रूप के बारे में सुल्तान खिलजी ने जितना सुना था उससे कहीं ज्यादा पाया पद्मावती को देखते ही अलाउद्दीन ने उसे अपना बनाने की ठान ली शर्त के अनुसार चित्तौड़ के महाराजा ने अलाउद्दीन खिलजी को आईने में रानी पद्मावती का प्रतिबिंब दिखा दिया और फिर अलाउद्दीन खिलजी को पूरे मेहमान नवाजी के साथ पुरे चित्तौड़ जिले के 7 दरवाजे पार करा कर उनकी सेना के पास छोड़ने गये इसी अवसर का लाभ उठाकर अलाउद्दीन ने राजा रतन सिंह को बंदी बना लिया और उसके बाद उसने संदेश भिजवाया की राजा रतन सिंह को अगर देखना है तो रानी पद्मावती को तुरंत अलाउद्दीन खिलजी के खिदमत में किले के बहार भेज दिया जाए रजा रतन सिंह को अलाउद्दीन खिलजी की गिरफ्त से शकुशल मुक्त कराने के लिए रानी पद्मावती ने सोनगढ़ के चौहान राजपूत, जनरल गोरा और बादल के साथ मिलकर सुलतान को उसके ही खेल में हराने की ठानी और कहा कि अगली सुबह रानी पद्मावती को उनके यहां भेज दिया जाएगा और फिर 150 पालकी मंगवाई गई और उन्हें किले से अलाउद्दीन के कैंप तक ले जाया गया लेकिन पालकी के अन्दर रानी पद्मावती और उनकी दसियों के भेष में लड़ाके योद्धा मौजूद थे योद्धाओं ने दिल्ली की सेना में आक्रमण कर दिया और इसी चालाकी से राजा रतन सिंह को अलाउद्दीन की गिरफ्त से छुड़ा लिया गया और रतन सिंह को सुरक्षित रूप से महल पंहुचा दिया गया।


कहा जाता है कि वासना और लालच इंसान की बुद्धि हर लेती है अलाउद्दीन खिलजी के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. सुल्तानपुर को जब खबर लगी की उसके साथ छल हुआ है तो इस बात को सुनकर सुल्तान आग बबूला हो गया और उसने तुरंत ही चित्तौड़ पर आक्रमण करने का निर्णय लिया रतन सिंह की सेना सुल्तान की सेना से बहुत छोटी थी लेकिन रतन सिंह के पास युद्ध के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नहीं था और उन्होंने युद्ध का आदेश दिया और किले का दरवाजा खोलकर युद्ध के लिए तैयार हो गए किले का दरवाजा खुलते ही अलाउद्दीन और उसकी सेना ने आक्रमण कर दिया इस खतरनाक युद्ध में पराक्रमी राजा रतन सिंह वीरगति को प्राप्त हो गए उनकी सेना भी हार गई और अलाउद्दीन खिलजी ने चित्तौड़ के किले को लूट लिया युद्ध में राजा रतन सिंह और अन्य राजपूत योद्धा के मारे जाने की खबर सुनकर रानी पद्मावती ने जौहर करने का निर्णय लिया जौहर एक ऐसी प्रक्रिया है जिस में सारी महिलाएं अपने दुश्मन के साथ रहने की बजाय स्वयं को विशाल अग्निकुंड में न्योछावर कर देती हैं जब अलाउद्दीन खिलजी किले के अन्दर प्रवेश प्रवेश करता है तब उसके हाथ लगती है सिर्फ निराशा, धुआं और राख कहा जाता है आज भी चित्तौड़ की महिलाओं को और रानी पद्मावती के जौहर करने की बात को लोग आज भी गर्व से याद करते हैं कहते हैं राजपूत सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं।
Share:

9 Nov 2017

मुद्रा बैंक योजना क्या है और लोन कैसे मिलता है पूरी जानकारी हिंदी में

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 अप्रैल 2015 को नई दिल्ली में मुद्रा बैंक यानी माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी की शुरुआत की यह योजना छोटे व्यापारियों को मदद देने के लिए बनाई गई है। मुद्रा बैंक युवा, शिक्षित और  प्रशिक्षित उद्यमियों यानी Trained Entrepreneur को मदद देने के लिए बनाई गई है।


आइये अब  मुद्रा योजना के उद्देश्य के बारे में जानते हैं। इस योजना के तहत छोटे उद्योग आसानी से बैंक से लोन पा सकेंगे इसमें बहुत कम ब्याज पर लोन मिलेगा हर कोई व्यक्ति जिसने Partnership Firm बनायीं है या फिर वो कोई छोटी Manufacturing Unit चलाता है उसे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत आसानी से सस्ती दरों पर लोन मिल सकेगा। खासकर छोटे दुकानदारों, फल और सब्जी विक्रेताओं, सैलून चलाने वाले युवाओं, ढाबा चलाने वालों, मैकेनिक, ब्यूटी पार्लर, ट्रांसपोर्ट, ट्रक ऑपरेटर, कर्ज सहायता समूह, प्रोफेशनल और सर्विस प्रोवाइडर को इससे लोन मिलेगा।


प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत उद्योग संबंधी प्रशिक्षण व्यापार की छोटी-छोटी बातें भी बताई जाएंगी जिससे की छोटे उद्योग अपने व्यापार को बड़ा सके। माना जा रहा है की मुद्रा बैंक से देश भर में करीब 5.77 करोड़ माइक्रो, मध्यम और स्मॉल बिजनेस को लोन मिल सकेगा वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2015 के आम बजट में इसकी घोषणा करते हुए इसके लिए 20000 करोड़ रूपये का आवंटन किया था साथ ही 3000 करोड़ रूपये का आवंटन क्रेडिट गारंटी फण्ड के रूप में किया गया है।


आखिर मुद्रा बैंक बनाने की जरूरत क्यों पड़ी

छोटे उद्योगों को बैंक से मदद आसानी से नहीं मिलती है कई उद्योग बैंकों के नियमो को पूरा करने में असमर्थ थे जिस से कई छोटे उद्योग पैसे की कमी के कारण बंद हो जाते थे क्योंकि वह अपना व्यापार चलाने में असमर्थ थे इसके लिए मुद्रा बैंक योजना शुरू की गई है जिसका मुख्य लक्ष्य छोटे उद्योगों को वित्तीय मदद देना तथा देश के पढ़े-लिखे नौजवानों के हुनर को मजबूत धरातल देना और महिलाओं को सशक्त बनाना है ताकि वह अपना व्यापार प्रारंभ कर सकें। सरकार का मानना है कि बड़े उद्योग कम लोगों को रोजगार देते हैं परंतु छोटे उद्योग बहुत बड़ी जनता को रोजगार उपलब्ध कराते हैं अगर ऐसे लघु उद्योगों को आर्थिक मदद उपलब्ध कराई जाए तो उनकी उन्नति के साथ साथ रोजगार के अवसर भी उत्पन्न होंगे।


मुद्रा योजना के अनुसार 3 प्रकार से लोन मिलेगा -

पहला शिशु जिसमे 50000 रूपये तक का लोन शामिल है, दूसरा किशोर इसमें 50000 से 5 लाख तक का लोन शामिल है, तीसरा तरुण जिसमें 5 से 10 लाख तक का लोन शामिल है।


कैसे मिलेगा मुद्रा लोन

मुद्रा योजना का लाभ लेने के लिए आप अपने नजदीकी बैंक से संपर्क कर सकते है और साथ ही आप किस लिए लोन लेना चाहते हैं यह कारण भी साफ होना चाहिये।

अभी तक हमने जाना की मुद्रा योजना क्या है आइये अब जानते है की मुद्रा योजना के क्या लाभ है।

1 - भारत में बेरोजगारी एक मुख्य समस्या है भारत में बहुत से ऐसे नौजवान है जिनके पास हुनर तो है पर पैसे की कमी है और वो बेरोजगार बैठे है। मुद्रा योजना के तहत वो लोन लेकर अपना व्यापार शुरू कर सकते हैं साथ ही और लोगों को भी रोजगार दे सकते हैं इससे बेरोजगारी की समस्या दूर हो सकती है।

2 - मुद्रा बैंक योजना के तहत ऐसे उद्योग जो पूंजी की कमी के कारण नही चल पा रहे थे या अपना व्यपार सही से नही कर पा रहे थे उनकी पूजी की कमी को पूरा किया जाएगा ताकि वे अपना व्यापार बढ़ा सकें।

3 - इस योजना के कारण छोटे व्यापारियों का होसला बढेगा, उनमे प्रतियोगिता की भावना उत्पन्न होगी जिससे देश का आर्थिक विकास होगा।

4 - छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने से देश का पैसा देश में ही रहेगा और देश का विकास होगा।

मुद्रा बैंक योजना की सोच बांग्लादेश के प्रोफेसर और नोबेल प्राइज विजेता मोहम्मद यूनुस की है जिसे उन्होंने वर्ष 2006 में लागू किया था जिसके कुटीर उद्योग का विकास हुआ जिसके बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी मोहम्मद यूनुस की प्रशंसा की गई।


दोस्तों आशा करते है मुद्रा बैंक योजना की यह जानकारी आपके काम आएगी, अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

You May Also Like
loading...

Tags-
#Mudra Bank Yojna
#मुद्रा बैंक योजना
Share:

27 Aug 2017

Insurance क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

Insurance जिसे बीमा भी कहा जाता है का सरल भाषा में मतलब है अपने होने वाले आर्थिक नुकसान की समय से पहले रक्षा करना, बीमा शब्द फ़ारसी भाषा से आया है जिसका अर्थ होता है "जिम्मेदारी लेना", हम कह सकते है Insurance एक कानूनी समझौता है जो बीमा लेने और देने वाले के बीच होता है। समझौते के अनुसार बीमा लेने के बाद बीमाधारक को छमाही या सालाना रूप में कुछ पैसे बीमा करने वाली संस्था को देने होते है जिसे प्रीमियम भी कहा जाता है और इसके बदले में बीमा करने वाली संस्था बीमाधारक को वादा करती है की आर्थिक नुक्सान होने पर वह बीमाधारक को आंशिक या पूर्ण रूप से आर्थिक सहायता करेगी।


Insurance (बीमा) के प्रकार -

बीमा सजीव और निर्जीव दोनों वस्तुओं के लिए किया जा सकता है जिसमे से कुछ प्रमुख निम्नलिखित है -
  • जीवन बीमा
  • गाड़ी का बीमा
  • दुर्घटना बीमा
  • स्वास्थ्य बीमा
  • घर का बीमा
  • व्यवसाय बीमा
इस तरह बीमा कई प्रकार का होता है लेकिन आज हम इस पोस्ट में केवल जीवन बीमा पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

Life Insurance in hindi (जीवन बीमा) -

अन्य प्रकार के बीमा और जीवन बीमा में सबसे बड़ा अंतर यही है की जीवन बीमा सजीव वस्तुओं में किया जाता है, जीवन बीमा में बीमा कराने वाले व्यक्ति और बीमा प्रदान करने वाली संस्था के बीच एक कानूनी अनुबंध होता है जिसके अनुसार बीमा कराने वाले व्यक्ति को एक निश्चित धनराशि एक निश्चित समय के लिए देनी होती है और अगर इस दौरान बीमा कराने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो बीमा प्रदान कराने वाली संस्था को उचित धनराशि, अनुबंध में घोषित व्यक्ति (Nominee) को दी जाती है।


Best Life Insurance Plan in hindi -

नीचे Image में हम आपको वर्तमान में सबसे बेहतर चल रहे जीवन बीमा प्लान के बारे बता रहे है, आप अपने अनुसार जीवन बीमा प्लान चुन कर अपना जीवन बिमा करा सकते है।

Life Insurance Plan in hindi

आशा करते है हमारे द्वारा दी गयी Insurance in hindi की जानकारी आपके काम आएगी, अगर आपको हमारा यह प्रयास पसंद आया तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

You May Also Like
loading...
Share:

LIKE US ON FB